প্রধান মেনু খুলুন

পাতা:অনাথবন্ধু.pdf/৩২৩

এই পাতাটির মুদ্রণ সংশোধন করা প্রয়োজন।


प्रथम खस्छ, पञ्चन संस्था । } मेरी दो वातें । R | वंगेश्वर हिज एक्लेलेन्सी लौर्ड कारमाइकल दिवान चाहेव-धारराज्य। बहादुर । राय साहब महाराजकुमार महेण्डरो प्रसाद ܫܩܝ ܥܩܒܝ --ܩܝܣܢ true-sea महामान्य महाराजा सोनपुर । जी सिंह-गिहौर छेट । , महामान्थ राजासाहब बामड़ा। ^ हिज हाइनेस महाराजधिराज, অলইলন্ডন হৱৰ জন্মস্থাৰাতলা বৰলেঙ্গা। -वईमान । अनरेबल सर महाराजा मनीन्द्रचन्द्र नन्दो जैनरल केसर शमशेर ज्ञग बहादुर राणा । बहादुर-कासिमबाजार। - -नेपाल । अनरेबल महाराज बहादुर-नसोपुर । दिवान साहेव-बामरा राज्थ। महामान्ध जेनेरल तेज शमसेर जङ्ग बहादुर इत्यादि हत्थादि । । и ৰাত্মা-লিমোৱ । O जिन जिन मान्यवर महाशयों ने 'अनाथबन्धु' का ग्राहक राजा विजयसिंह धुधुरिया । बन मुझे उत्साहित किया है उनमें से उपरीना सभी सज्जन er RVT प्रदीप्त कुमार ठाकुर बहादुर इसके पृष्टपोषक तथा अभिभावक होंगे इसमे कोई सन्देह नहीं ' आशा हे सर्वसाधारण अब्रपूर्णा आश्रम स्थापित करने के सम्बन्ध म' DD DDDBD DB BDDSDD SHS SJSuSJSGHHS । महामान्य राजासाहब-लनजीगड़। मेरी यही प्रार्थना है कि, सब खख और खच्छन्दता पूर्वक दिन , ar 9 बितावें तथा मंगलमय जगदीश्वर के आशैव्र्वाद से इस महत् सामाननीय महाराणे साधा. ::::: देशी हाथ का शिल्प तथा अत्यतावश्यक नवाविष्कृत फलदायक i DDD DBDDDBD DDDDSDDD S DDDDD DD D DD DD D DD DD D D हिरो-राजसाह्री । करेंगे। प्राचीन समयका ग्राम्य-इतिहास, मन्दिरों के विवरण एवं - कुमार ए, पी, चित्रादि भेजने पर प्रकाशित किये जायंगे। किसी की निन्दा, बौयुत प्रभातचन्द्र गिरि-ताड़केश्वर। अग्नील शब्द पूर्ण निबन्म अथवा राजनीति सम्वन्धीय लेख इसी अजरेवरू হৰ गुरुदास वब्ह्योपाध्याय पविका में gąfia 可 དགེ་ अथुत जितेन्द्रकिशोर । यदि कोई रमणी धार्भिक विषयपर लेख, काव्य अथवा गीत लिख कर भेजें ती छापी जा सकती है। ‘अनाथबन्धु” में छापने - सुतागाछा । के लिये बहुतसी तसवीरें जौवन चरित्र के साथ मिली हैं। अत्रोयुत वावु फणीन्द्रनाथ मित्र-भबानीपुर । आशा है अन्य सज्जन भी अपना १ जीवनवृतान्त एवं चित्र भेजने में देर न करेंगे। पण्डित एन, विद्यारब्र। कुछ दिन बाद ही और एक भारतके राजालीगों के जौवनओयुत वावु उद्योतिषचन्द्र चाटाज्जैि- चरित्र एवं फोटो का एलबम प्रकाशित करुगा। इसका छापना कलकत्ता । अत्यंत सहज होगा, कारण प्रधान खर्च है बौक बनवाई सी. अनाथबन्धु' के लिधे बने ही हैं। इस विषय में सब राजाओं से‘ ت ' चौड्युत वायु आशुतोष मजुमदार-कलकत्ता । BDB BB DBDD DDD D SBB DBB BBBD DBDB KDS । वोयुत वायु एन चाटाजि । लोंगोंने अपना अपना पीटी और जीवन-चरित अब तक नही

वीमती एस, वि, देवी भेजा है, उन महाशय होगी' से अपना अपना पीटी और चौबन

U, -ল্যান্ডাকনা ৷ चरित भेजने के लिये प्रार्थना की जाती है। । त्रीयुत लाला एस, fu, नन्दोखाहेव- “अन्त्वपूर्खा VE” A. a. 可可RT可 1 का कार्य जिस तरह चलेगा उसका ब्यौरा हम लिख ही जुकेहैं BD DBD DDBDDD BDDDYS BD D DBD D DDDBBD D DD D S DD DD । जलडाङ्गा। रखेंगे मैं छतशता पूर्वक निवेदन م " " - ssis= 'ir qqSSLiBBDBDBDi eED D DD DD D DBEL DBG BDBB S | .. ܇ ܚܪ चौड्युत कुमार विचित्र सा; टिहरि, गाोयाख। उहेश की सनक याहक हो गए हैं के चनकी संक्षा पाते ही कुमार गोपीका रमण राय-सिलहट। বাধিদ্ধ যুজয় লীলািয়ত্ব লুণী ৰাখিল দই। —