পাতা:অর্থনীতি ও অর্থব্যবহার.pdf/৪২

এই পাতাটির মুদ্রণ সংশোধন করা প্রয়োজন।


दधचंग ऋ*Tiत्र । ❖ነ ग६*ाङ्गत्रै fनष्ठक्तःि चण॥ड । कॆीङ्ग ५f fङ्गा *् शरेटनाः थांठदकद्र ♚fठ fक चठान्निात्र इज़ ? किङ्करे गश् ! कबé fप्रदान चर्थ कि ? जांभाज़ अर्थ चामि जना:क वाजशाग्न कड्रिाफ ग्निनाज, ८न केंझा वाचाइज़ कfद्भग्ना ऍनकांद्रनाञ्च कज़िन, *ज९ श्राभाद्भ चयं दावशांज़ तद्विघ्न ठाशाद्र नाछ इहैन बनिज़ा धे गादसङ्ग विघ्नम९* शूनपङ्ग:न चाशtन मिल । केश छाछ1 फेलरङ्गज़रै फेनकाद्र श्रेन, चाशद्र ५ लिहू शून्जाउ श्रेन, चांद्र थ४शtनद्र० दिनक* डेनकांद्र श्रेन। बठ*न ४ाड़ ८अsग्रl fकप्न मrाङ्गनबल মছে : r পঞ্চম পরিচ্ছেদ । ধনো পত্ত্বি । সাধন *য়ের উৎপাদিক শক্তি। बिठीघ्र नद्रिक्रtन निौठ इ३द्राrs, ८ष ४:नां९"द्धिद्र ननृभ्रांश् लिनौ श्रथिन, ब्रेझि. १fठेश्म 6 मूल५न।। 4च्t१ 4* Du BB SBuD DBB DBBBBSDDC C DTC फेनाङ्गदाद्रा बे भक्ति? ब्रकि दद्व1 बाहेरठ नाप्द्र,** नबच बिबग्न नयाङरूप्ण दिएनश्ठि इ३८ठप्झ्। छुमि गब्रिजब स मूनदन •ो fद्धनप्रैज़ गभtशष्ठ कां*ाबांब्राझे धन प्ले९नम इ*$1 भांक। ८कदम ভূমি, কেবল পরিশ্রমব কেবল মূলধন, কোন কার্ধ্যেরই মৰে, चांबांद्र केशरन्द्र *कन्नैङ्ग छटाँ:न भ*ट्र छूहेन्नै बाब्रt* धनार नाजन ह*ठ लiरज़ न । हैंझाँबtज़1 4हे कनfीज़ शरैटशाझ, ८श थानां९नाशन काष्ठै; ईशtन्ज़ ४ग्नष्टTप्नङ्ग चाच्ॉदिक चसि। चारइ दt?,ङिद्ध देशष्टमङ्ग लड़=ज़ नाशयाचाङ्गाँ* ने छै९गा*ि*1 শক্তি উদ্ভূত হয়। আবার এই তিনটাই উৎপাদিকা শক্তি দেশ